Saturday, May 28, 2022

Buy now

ओवैसी से अमित शाह की अपील: मैं एक बार फिर से विनती करता हूं सुरक्षा ले लें, हमारी चिंता खत्म करें

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि ओवैसी का हापुड़ जिले में कोई पूर्व निर्धारित कार्यक्रम नहीं था, उनके आंदोलन की कोई सूचना भी जिला नियंत्रण कक्ष को पहले नहीं भेजी गई थी।
उत्तर प्रदेश के हापुड़ में एआईएमआईएम सांसद असदुद्दीन ओवैसी के वाहन पर फायरिंग मामले में आज केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में जवाब दिया। उन्होंने कहा कि ओवैसी का हापुड़ जिले में कोई पूर्व निर्धारित कार्यक्रम नहीं था, उनके आंदोलन की कोई सूचना भी जिला नियंत्रण कक्ष को पहले नहीं भेजी गई थी। शाह ने कहा कि दो अज्ञात लोगों ने काफिले पर फायरिंग की थी। ओवैसी भाग्यशाली रहे कि सुरक्षित बाहर आ गए लेकिन उनके वाहन के निचले हिस्से पर गोली के 3 निशान थे। इस घटना को तीन गवाहों ने देखा। त्वरित कार्रवाई करते हुए दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया और उनके पास से दो अनधिकृत पिस्तौल और एक ऑल्टो कार बरामद की गईं। फोरेंसिक टीम कार और घटना स्थल की सूक्ष्म जांच कर रही है। साक्ष्य जुटाने की कोशिश भी हो रही है।
सुरक्षा ले लें और हमारी चिंता को खत्म करें: अमित शाह
अमित शाह ने राज्यसभा में आगे कहा कि हमने ओवैसी को सुरक्षा देने की पेशकश की थी लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया। अमित शाह ने कहा कि वह ओवैसी से एक बार फिर से विनती करते हैं कि वह सरकार की तरफ से दी जा रही सुरक्षा ले लें और चिंता को खत्म करें। शाह बोले कि पहले भी कई मौकों पर केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों के आकलन के बाद ओवैसी को सुरक्षा प्रदान करने के निर्देश केंद्र सरकार ने जारी किए हैं। लेकिन ओवैसी ने इससे इनकार कर दिया है। इस वजह से दिल्ली पुलिस और तेलंगाना पुलिस द्वारा उनको सुरक्षा देने का प्रयास सफल नहीं हो पाया।
काफिले पर दागी गई थीं गोलियां
उत्तर प्रदेश के हापुड़ में असदुद्दीन ओवैसी के काफिले पर कुछ दिन पहले हमला कर दिया गया था। यह हमला उस समय पर हुआ जब वह मेरठ से दिल्ली की ओर से लौट रहे थे। टोल प्लाजा के पास हमलावरों ने उन पर फायरिंग की। इस समय ओवैसी गाड़ी में ही मौजूद थे। हालांकि, इसके बाद हमलावर सचिन व शुभम को गिरफ्तार भी किया गया, जिनके पास से 9 एमएएम पिस्टल बरामद की गई थी।
हमले के तुरंत बाद जेड सुरक्षा की पेशकश लेकिन ओवैसी ने किया इनकार
ओवैसी पर हुए हमले के तुरंत बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय ने उनकी सुरक्षा बढ़ा दी। उन्हें जेड सुरक्षा मुहैया कराई गई। हालांकि, AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने इस सुरक्षा को अस्वीकार कर दिया। उधर, पुलिस का कहना है कि आरोपियों ने कबूल किया है कि उन्होंने आवैसी के नफरती बयानों से नाराज होकर वारदात को अंजाम दिया था।
ओवैसी बोले- मरने से नहीं डरता
हमले के बाद ओवैसी का बयान सामने आया था। उन्होंने कहा था कि मुझे तुम्हारी गोलियों से डर नहीं लगता, मैं मरने से नहीं डरता हूं। मुझ पर हमला ही इसलिए किया गया, क्योंकि मैं आपके खिलाफ बोलता हूं। अगर एक ओवैसी मर भी जाता है तो मैं लाखों ओवैसी को जन्म देने के लिए कहता हूं।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,333FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles